अनुराग कश्यप ने पायल घोष के आरोपों का जवाब दिया कहा- ‘थोड़ी तो मर्यादा रखिए मैडम, अभी बहुत अटैक होने हैं’

168

Patna: एक्ट्रेस पायल घोष की ओर से अनुराग कश्यप पर लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों पर निर्देशक ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. अनुराग ने एक्ट्रेस के यौन शोषण के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है और इसे एक साजिश बताया है. निर्देशक ने अपनी प्रतिक्रिया में सोशल मीडिया का सहारा लिया है और ट्विटर पर चार ट्वीट किए हैं. उन्होंने हिंदी में किए गए इन चार ट्वीट में ना सिर्फ एक्ट्रेस को मर्यादा में रहने के लिए कहा है, बल्कि उनका कहना है कि सभी आरोप बेबुनियाद हैं.

अनुराग ने अपने पहले ट्वीट में आगे लिखा- ‘क्या बात है , इतना समय ले लिया मुझे चुप करवाने की कोशिश में. चलो कोई नहीं. मुझे चुप कराते कराते इतना झूठ बोल गए कि औरत होते हुए दूसरी औरतों को भी संग घसीट लिया. थोड़ी तो मर्यादा रखिए मैडम. बस यही कहूँगा की जो भी आरोप हैं आपके सब बेबुनियाद हैं.’

फिर अगले ट्वीट में निर्देशक ने लिखा- ‘बाक़ी मुझपे आरोप लगाते लगाते, मेरे कलाकारों और बच्चन परिवार को संग में घसीटना तो मतलब नहले पे चौका भी नहीं मार पाए. मैडम दो शादियां की हैं,अगर वो जुर्म है तो मंज़ूर है और बहुत प्रेम किया है, वो भी क़बूलता हूं. चाहे मेरी पहली पत्नी हों, या दूसरी पत्नी हों या या कोई भी प्रेमिका या वो बहुत सारी अभिनेत्रियां जिनके साथ मैंने काम किया है, या वो पूरी लड़कियों और औरतों की टीम जो हमेशा मेरे साथ काम करती आयीं हैं, या वो सारी औरतें जिनसे मैं मिला बस , अकेले में या जनता के बीच.’

आगे निर्देशक ने लिखा- ‘मैं इस तरह का व्यवहार ना तो कभी करता हूं, ना तो कभी किसी क़ीमत पे बर्दाश्त करता हूं. बाक़ी जो भी होता है देखते हैं. आपके वीडियो में ही दिख जाता है कितना सच है कितना नहीं, बाक़ी आपको बस दुआ और प्यार. आपकी अंग्रेज़ी का जवाब हिंदी में देने के लिए माफ़ी.’

फिर देर रात निर्देशक ने एक और ट्वीट किया और लिखा- ‘अभी तो बहुत आक्रमण होने वाले हैं. यह बस शुरुआत है. बहुत फ़ोन आ चुके हैं कि नहीं मत बोल और चुप हो जा. यह भी पता है कि पता नहीं कहां कहां से तीर छोड़ें जाने वाले हैं. इंतज़ार है.’

बता दें कि एक्ट्रेस पायल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद मांगते हुए ट्वीट में कहा, ‘अनुराग कश्यप ने मेरे साथ जबदस्ती की. मेरे साथ ‘अभद्र बर्ताव किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कृपया इस मामले में कार्रवाई करें ताकि देश को पता चले कि रचनात्मक काम करने वाले इस व्यक्ति के पीछे कैसा राक्षस छुपा है. मुझे पता है कि ऐसा करने से मुझे बहुत नुकसान हो सकता है. मेरी सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है. कृपया मेरी सहायता करें.’