मिर्जा और बाकें की नोकझोंक के बीच बेगम ले गईं लाइमलाइट

168
Begum carried Limelight between Mirza and the rest of the world

मिर्जा और बाकें की नोकझोंक के बीच बेगम ले गईं लाइमलाइट

  • फिल्म: गुलाबो सिताबो
  • डायरेक्टर: शूजित सरकार
  • कास्ट: अमिताभ बच्चन, आयुष्मान खुराना

अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना की फिल्म गुलाबो-सिताबो ओटीटी प्लेटफॉर्म में रिलीज हो गई है। इस फिल्म को लेकर फैन्स में काफी एक्साइटमेंट थी और अब फाइनली फिल्म आ गई है। इस फिल्म के जरिए बिग बी और आयुष्मान पहली बार साथ काम कर रहे हैं।

कहानी

फिल्म की कहानी एक चिड़चिड़े और लालची स्वभाव के मिर्जा(अमिताभ बच्चन) की है। मिर्जा का एक ही मकसद है और वो ये कि वह हवेली अपने नाम करना चाहता है। दरअसल, हवेली मिर्जा की पत्नी फातिमा की है इसलिए इस हवेली का नाम फातिमा महल है। 

लेकिन मिर्जा की जिंदगी में कुछ और दिक्कतें भी है और वो है बांके(आयुष्मान खुराना) रस्तोगी जो कि हवेली में किराएदार है। वह अपनी मां और 3 बहनों के साथ रहता है। मिर्जा और बांके के बीच हमेशा लड़ाई होती रहती है मिर्जा उसे घर से बाहर निकालना चाहता है क्योंकि बांके ने काफी समय से किराया नहीं दिया है।

रिव्यू

फिल्म में जूही चतुर्वेदी ने जो किरदार लिखे हैं वो अपने आप में मजेदार हैं। फिल्म बीच में थोड़ी सी खिंची हुई लगती है लेकिन लास्ट में फिल्म थोड़ी एंटरटेनिंग हो जाती है। अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना ने बेहतरीन एक्टिंग की है। दोनों के बोलने का स्टाइल और बॉडी लैंग्वेज काफी हटकर और अलग था। दोनों का ऐसा अवतार किसी ने नहीं देखा है। बाकी के सपोर्टिंग एक्टर्स ने भी अपना बेस्ट देने की कोशिश की है, लेकिन बेगम लास्ट में सारी लाइमलाइट ले जाती हैं।

क्यों देखें

लॉकडाउन में घर में परिवार के साथ एक सिंपल कहानी को एंजॉय करना चाहते हैं तो आप ये फिल्म देख सकते हैं।