नीतीश कुमार का बड़ा बयान, कहा- मुझे CM बनने की इच्छा ही नहीं थी

76
Desk: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि पिछले विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद वे इस कुर्सी पर नहीं बैठना चाहते थे। उनकी एक पैसा इच्छा नहीं थी। जनता ने अपना फैसला दे दिया था। किसी को भी CM बना दिया जाता, चाहे वो भाजपा का ही होता। मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। लेकिन मुझ पर दबाव डाला गया। इसके बाद ही मैं फिर से काम करने के लिए तैयार हुआ। नीतीश ने पटना के जदयू कार्यालय में चल रही दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद की बैठक के दूसरे दिन ये बातें कही हैं। उन्होंने RCP सिंह को नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की वजह भी बताई। आगे पार्टी के और खुद के काम करने की योजनाओं की जानकारी दी। अरुणाचल प्रदेश में जदयू विधायकों के टूटने पर भी दुख जताया। आगे पढ़िए, किस मुद्दे पर वे क्या-क्या बोले : नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने पर पार्टी और संगठन का विस्तार तेज गति से होना चाहिए। उसी काम में हम लगे हुए हैं। फ़िलहाल यह काम तेज गति से नहीं हो रहा था। हमारे ऊपर बहुत जिम्मेदारी है। बिहार का विकास भी करना है। ऐसे में हमने तय किया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद छोड़ दें और RCP सिंह जी को नई ज़िम्मेदारी दे दी जाए। ताकि मुझे बिहार का विकास करने का ज़्यादा मौक़ा मिल सके, वहीं आरसीपी सिंह पार्टी को तेज़ी से मज़बूत कर सकें। पार्टी को मजबूत करने के लिए हमने पद छोड़ा। अरुणाचल मामले पर नीतीश ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में क्या हुआ, सब लोग अच्छी तरह से जान लीजिये। हमारे 6 लोग उन्होंने निकाल लिया, लेकिन वहां से एक जो बच गए, वो आये हैं। इन सब चीज के बावजूद क्या हुआ। हम तो प्रचार करने में नहीं रहते हैं। सिद्धांत के आधार पर लोगों को जागरूक किया जाए, आज ऐसा नहीं हो रहा। हम लोग देश की मजबूती के लिए काम करेंगे। अपने स्वार्थ के लिए हम काम नहीं करेंगे। समाज में किसी तरह का मतभेद नहीं हो, इसका प्रयास करते रहेंगे। नीतीश के राम ने कहा – अब किसी को छुरा भोंकने का मौका नहीं देंगे जदयू के नवनियुक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि मैं और नीतीश कुमार जी 23 साल से एक साथ हैं। उन्होंने जितना सम्मान मुझे दिया है, वो मैं कभी नहीं भूल सकता हूं। 19 मार्च 1998 को नीतीश जी ने रेल मंत्री रहते मुझे फोन किया कि रामचंद्र बाबू आप हमारे साथ जुड़िये। आज भी नीतीश जी ने अपनी तरफ से जो ड्यूटी सौंपने का काम किया, इसके लिए हम आभारी हैं। हमारे संस्कार को कोई कमजोरी न समझे RCP ने इशारों में ही भाजपा पर हमला किया। उन्होंने कहा कि हम जिनके साथ रहते हैं, पूरी ईमानदारी से रहते हैं। हम साजिश नहीं रचते। किसी को धोखा नहीं देते। सहयोगी के प्रति ईमानदार रहते हैं। इस तरह का अवसर आगे नहीं आए, ये तय करने की कोशिश करेंगे। हम अपने दल को राष्ट्रीय पार्टी बनाने की दिशा में काम करेंगे। अब पूरे देश में पार्टी का विस्तार किया जाएगा। किसी को छुरा भोंकने का मौका अब नहीं देंगे। हम प्रचार में कमजोर हैं। हमारे नेता पर अगर कोई एक उंगली उठाएगा, तो हम बर्दाश्त नहीं करेंगे।