अगर पहले से नहीं कराया रजिस्ट्रेशन तो नहीं लगेगी कोविड वैक्सीन, यहां कराना होगा खुद को रजिस्टर्ड

118

Patna: अगर आपने पहले से रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है तो आपको कोविड वैक्सीन नहीं लग पाएगी। सरकार उतने ही लोगों का डोज मंगाएगी, जिनका रजिस्ट्रेशन हुआ होगा। रजिस्ट्रेशन के लिए Co-Win ऐप लांच किया जाएगा, जिससे आसानी से रजिस्ट्रेशन हो पाएगा। हालांकि फर्स्ट फेज में वैक्सीन की सुविधा हेल्थ वर्करों के लिए ही होगी लेकिन इसके बाद फ्रंट लाइन वर्कर और आम लोगों को वैक्सीन दिया जाएगा।

फर्स्ट फेज के लिए जल्द होगा रजिस्ट्रेशन
फर्स्ट फेज में वैक्सीन का डोज हेल्थ वर्करों को दिया जाएगा। इसमें सरकारी और निजी अस्पतालों के डॉक्टरों के साथ अन्य हेल्थ वर्करों को शामिल किया गया है। वैक्सीन का डोज लेने के लिए हर किसी को अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। सरकारी हो या निजी अस्पताल के डॉक्टर या अन्य वर्कर सभी को पहले खुद से रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

अगर रजिस्ट्रेशन नहीं तो स्पॉट पर नहीं लगेगी वैक्सीन
अगर पहले से एप पर रजिस्ट्रेशन नहीं है और हेल्थ वर्कर स्पॉट पर पहुंचकर वैक्सीन लगवाना चाहते हैं तो उन्हें यह डोज नहीं दी जाएगी। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि सिर्फ ऐसे ही लोगों को वैक्सीन दी जाएगी जो पहले से ही रजिस्टर्ड होंगे। सरकार उतनी ही वैक्सीन मंगाएगी जितने व्यक्तियों का उसे रजिस्ट्रेशन नंबर मिला होगा।

ऐसे होगा एप पर रजिस्ट्रेशन
पटना के प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. एस पी विनायक ने बताया कि सरकार वैक्सीन को लेकर Co-Win ऐप तैयार कर रही है। यह एप गूगल प्ले स्टोर पर मिलेगा, हालांकि अभी यह लांच नहीं किया गया है। वैक्सीन आने के पहले ही इसे लांच कर दिया जाएगा। इसके बाद पहले चरण में आने वाले डॉक्टर और हेल्थ वर्कर खुद से ही एप को डाउनलोड कर अपना रजिस्ट्रेशन करेंगे। रजिस्ट्रेशन के बाद उन्हें एक एक टोकन नंबर मिल जाएगा। इस टोकन नंबर के आधार पर वैक्सीन उन्हें दी जाएगी।

सेकेंड फेज में फ्रंट लाइन का होगा रजिस्ट्रेशन
पटना के प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. एस पी विनायक ने कहा कि पहले चरण में हेल्थ वर्करों के लिए रजिस्ट्रेशन खुलेगा फिर दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्करों के लिए रजिस्ट्रेशन होगा और फिर तीसरे चरण में आम लोगों के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वैक्सीन को लेकर पूरी तैयारी की जा रही है। ऐप को लेकर भी प्रशिक्षण हो रहा है। इसके पूर्व हेल्थ वर्करों की लाइम लिस्टिंग कराने का काम भी तेजी से किया जा रहा है।