बिहार के बाजार में दवाइयों की कमी, जिंक और विटामिन-सी की दवाएं गायब

164

Patna : बिहार में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के बीच दवाइयों की किल्लत शुरू हो गई है। बिहार के बाजार से अचानक जिंक और विटामिन सी की दवाएं गायब होने लगी हैं। दवा दुकानों में ये दवाइयां नहीं मिल रही हैं। दवा दुकानदारों के अनुसार, जिंक और विटामिन सी की दवाइयां ऊपर से ही सप्लाई नहीं हो रही हैं। वह कई बार ऑर्डर दे चुके हैं, लेकिन उन्हें सप्लाई नहीं की जा रही है।

बैरिया, लक्ष्मीनगर, भगवानपुर, माड़ीपुर व कंपनीबांग समेत शहर के अधिकांश दवा दुकानों में ये दवाइयां उपलब्ध नहीं हैं। दुकानदारों का कहना है कि अभी उनके पास किसी भी कंपोजिशन में ये दवा उपलब्ध नहीं है। दवा दुकानदारों से ये पूछने पर की जिंक और विटामिन सी की दवाइयां कब तक आएंगी, दुकानदारों का साफ कहना था कि ये दवाइयां कुछ दिनों से अचानक आनी बंद हो गई हैं। कब तक आएंगी, इसकी कोई तय समय नहीं है।

सप्लाई चेन टूटने की वजह

कोरोना से जंग में सबसे अनिवार्य है अपने अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखना। इसलिए इन दवाइयों की खपत अधिक होने से यह बाजार से गायब हो गई हैं। दुकानदारों ने बताया कि जिंक और विटामिन सी आवश्यकता से अधिक लोगों ने खरीदकर अपने घरों में स्टॉक कर लिया है।

महीनों से दे रखा है ऑर्डर

दवा दुकानदारों ने बताया कि जिंक और विटामिन की दवाओं के लिए महीनों से अपनी सप्लायर कंपनी के पास आर्डर बुक कराया हुआ है, लेकिन उन्हें दवा की सप्लाई नहीं हो रही है। उन्होंने कई बार इन दवाइयों के कंपोजिशन बदलकर ऑर्डर किया है, बावजूद इसके दवा नहीं आ रही है।

जरूरतमंदों को हो रही दिक्कत

उम्र बढ़ने के साथ अधिकांश लोग इन दवाइयों का सेवन अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखने के लिए करते हैं। वैसे लोगों को दवा उपलब्ध नहीं होने के कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने बताया कि उन्होंने ऑनलाइन भी दवाइयां बुक कराई हैं, लेकिन पहुंचने वाले भी काफी लंबा समय ले रहे हैं।

ऑक्सीमीटर की किल्लत, दामों में तिगुना उछाल

कोरोना के दौरान ऑक्सीमीटर की डिमांड तेजी से बढ़ी है। यह डिवाइस आपके खून में ऑक्सीजन के स्तर को मापने के काम आती है। यह डिवाइस शरीर में होने वाले छोटे से छोटे अंतर का भी पता लगा सकती है। यह एक छोटी-सीक्लिप जैसी डिवाइस होती है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के साथ इस डिवाइस की बाजार में कमी होने लगी है। साथ ही तीन गुना महंगा हो गया है।

शहद, च्यवनप्राश व हर्बल टी की बढ़ी बिक्री

दुकानदारों के अनुसार कोरोना संक्रमण जब से उत्तर बिहार में फैला है, तब से आयुर्वेदिक पद्धति में शहद, च्यवनप्राश, हर्बल टी, गिलोय व तुलसी की खपत में काफी इजाफा हुआ है।