बिहार की पहली ट्रेन जिसमें वेलकम करेंगी होस्‍टेस, फ्लाइट की तरह होगा किराया

211

Patna: बिहार के भागलपुर जिले के खाते में भी देश में 109 रूट पर चलने वाली प्राइवेट ट्रेनों में से एक ट्रेन आई है. तो वहीं यहां से पहली प्राइवेट ट्रेन हावड़ा के लिए चलेगी. परिचालन के लिए निजी कंपनियों से आवेदन मांगे गए हैं. ट्रेन का किराया हवाई किराया (एयर फेयर) के आधार पर तय होगा. बोगियों पूरी तरह वातानुकूलित होंगीं. इस ट्रेन में एयर होस्टेस की तर्ज पर यात्रियों का स्वागत ट्रेन होस्टेस करेंगीं.

रोज होगा परिचालन, संभावित समय-सारिणी जारी

अभी तक के निर्णय के मुताबिक इस ट्रेन का परिचालन रोजाना होगा, जिसके लिए संभावित समय-सारिणी भी जारी कर दी गई है. भागलपुर से सुबह 06:25 बजे चलकर यह ट्रेन दोपहर 02:05 बजे हावड़ा पहुंचेगी. हावड़ा से दोपहर 02:35 बजे चलकर रात में 10:10 बजे भागलपुर पहुंचेगी. ट्रेन साहिबगंज-रामपुरहाट-वर्धमान के रास्ते 425 किमी की दूरी 7.35 घंटे में तय करेगी. अभी भागलपुर से हावड़ा के लिए सुबह में एक भी ट्रेन नहीं है. प्राइवेट ट्रेन से यात्रियों को काफी सहूलियत होगी.

ठहराव वाले स्टेशन और किराया का निर्धारण जल्द

ठहराव वाले स्टेशन और किराया आदि का निर्धारण निविदा के बाद होगा, जिसकी प्रक्रिया जल्द शुरू होगी. संभव है कि प्राइवेट ट्रेनों का किराया उस रूट के हवाई किराया (एयर फेयर) के आधार पर तय हो.

होस्‍टेस करेंगी स्‍वागत, एक्जीक्यूटिव क्लास के होंगे कोच

इस ट्रेन की बोगियों पूरी तरह वातानुकूलित होगी. एक्जीक्यूटिव क्लास और एसी चेयरकार के कोच होंगे. कोच में एलइडी टीवी, सेलफोन चार्जर और अन्य सुविधाएं होंगी. एयर होस्टेस की तर्ज पर यात्रियों का स्वागत ट्रेन होस्टेस करेंगी.

निजी हाथों में होंगे टिकटिंग व अन्य व्यावसायिक कामकाज

रेलवे की ओर से प्राइवेट ट्रेन के परिचालन के लिए देश को 12 कलस्टर में बांटा गया है. हावड़ा को कलस्टर-छह में रखा गया है, जिसमें भागलपुर-हावड़ा रूट को रेलवे ने प्राथमिकता दी है. यह पूर्व रेलवे जोन की पहली प्राइवेट ट्रेन होगी. इस ट्रेन में लोको पायलट, सहायक लोको पायलट और गार्ड रेलवे के होंगे. टिकटिंग, पार्सल और अन्य व्यावसायिक कामकाज के अलावा यात्री सुविधाओं का जिम्मा निजी हाथों में होगा. हर साल रेलवे को बोगियों के एवज में ट्रांसपोर्टेशन चार्ज मिलेगा.