गांव के लोगों को जल्द मिलेगी फ्री WIFI सुविधा, हर पंचायत में बनेगा हॉट स्पॉट

188

Patna: डिजिटल इंडिया के तहत डिजिटल विलेज़ का सपना साकार होने वाला है. गांवों में जल्द ही फ्री वाई-फाई की सुविधा मिलने लगेगी. जिले की सभी 249 पंचायतों में लोगों को निःशुल्क इंटरनेट की सुविधा मिलेगी. पहले चरण का काम लगभग पूरा हो गया है. अगस्त माह तक दूसरे चरण का काम भी पूरा हो जाएगा.

इसके बाद गांव में रहने वाले युवाओं किसानों, छात्रों, लाभुकों, बेरोजगारी से जूझ रहे लोगों की समस्या दूर हो जाएगी. इन्हें देश विदेशों में हो रही गतिविधियों की आसानी से जानकारी मिल सकेगी. सभी तरह का काम गांव से ही संभव हो जाएगा. जिले के सभी 249 ग्राम पंचायत को जल्द ही वाई-फाई ग्राम पंचायत घोषित कर दिया जायेगा. सीएससी ई-गवर्नेन्स सर्विस इंडिया लिमिटेड, बीबीएनएल (भारत ब्रॉडबैंड निगम लिमिटेड) के कर्मी इस कार्य में तेजी से जुटे हैं. डीएम योगेंद्र सिंह ने बताया कि पहले चरण में 9 प्रखंडों की 128 पंचायतों में वाई-फाई सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी.

10 एमबीपीएस की मिलेगी स्पीड
आम तौर पर गांवों में नेट की स्पीड काफी कम होती है. नेट या तो धीमा चलता है अथवा कमजोर नेटवर्क के कारण चलता ही नहीं है, लेकिन यह सुविधा शुरू होने के बाद उपभोक्ता को 10 एमबीपीएस प्रति मिनट की स्पीड मिलेगी. जिससे उपभोक्ता न सिर्फ नेट सर्फिंग कर सकेंगे बल्कि कोई भी चीज आसानी से डाउनलोड कर सकेंगे.

इन पंचायतों में शुरू हुई सेवा बिहारशरीफ के मघड़ा, डुमरावां, बियावानी, सकरौल,छबिलापुर, तेतरावां, तियुरी और गिरियक के पुरैनी, घोसरावां, दुर्गापुर, बरडीह, ढेकवाहा में वाई-फ़ाई मशीनों को पंचायत भवन में स्थापित किया गया है. थरथरी के अस्ता, एकंगरसराय के ओप, तथा बिन्द के ताजनीपुर में सरकारी स्कूल ,उतरथु बिन्द के जहाना में मशीन लगी है.

लोगों को सहूलियत | 9 प्रखंडों के 66 पंचायत में वाई-फ़ाई सुविधा शुरू
सीएससी ई-गर्वनेंस सर्विस इंडिया लिमिटेड की जिला प्रबन्धक आरती रानी ने बताया कि पहले चरण में 9 प्रखंडों के 128 पंचायतों में से 66 पंचायतों में भूमिगत फाइबर केबल बिछाई जा चुकी है. इन प्रखंडों में वाई-फ़ाई शुरू कर दी गई है. मॉनिटरिंग सीएससी ई-गवर्नेन्स के पंचायत स्तरीय वीएलई कर रहे हैं. पहले चरण में अस्थावां, इस्लामपुर, बिहारशरीफ़, एकंगरसराय, परबलपुर, गिरियक, थरथरी, बिन्द और चंडी में वाई-फ़ाई हाई स्पीड ब्रॉडबैंड का काम पूरा हो गया है. इन प्रखंडों के पंचायतों में वाई-फाई सुविधा बहाल कर दी गई है. दूसरे चरण में शेष 11 प्रखंडों में भी सुविधा शुरू होगी.

सैटेलाइट से जुड़ेंगे गांव, ताकि ग्रामीणों को मिले इंटरनेट

इंटरनेट हाई स्पीड सुविधा से गांव और दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोगों को फायदा होगा. इसके जरिये उन्हें टेलीफोन और वाई-फाई सुविधाएं मिलेंगी. इस प्रौद्योगिकी से देश के सभी भागों में यह सुविधा सभी मोबाइल फोन पर भी उपलब्ध होगी. सुदूर स्थानों पर रहने वाले लोग भी सैटेलाइट के जरिये संपर्क प्राप्त कर मुख्यधारा से जुड़े सकेंगे. सुदेर क्षेत्रों में जहां इंटरनेट उपलब्ध नहीं है वहां ऑप्टिकल फाइबर लाइन बिछा कर हाई स्पीड इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है.

वाई-फाई जोन डिजिटल इंडिया के तहत अधिकांश सेवा ऑनलाइन हो गई है. इसमें कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) बड़ी भूमिका निभा रही है. सरकारी व निजी नौकरी के आवेदन, राशन कार्ड बनाने, रसोई गैस बुकिग या नए कनेक्शन, छात्रों को ऑनलाइन पढ़ाई आदि कार्य अपने घर बैठे अपने मोबाइल या लैपटॉप से कर पाएंगे.

अभी प्लान तय नहीं ग्राम पंचायतों में वाई-फाई का इस्तेमाल ग्रामीण किस दर पर कर सकेंगे या कितना डेटा मुफ्त में इस्तेमाल किया जा सकेगा, अभी तय नहीं हो सका है. जल्द ही इसका निर्धारण हो जाएगा.

किसानों से मिटेगी दूरी : केंद्र सरकार ने किसानों से सम्बंधित कई एेप जारी किए हैं. जिससे किसानों को कई तरह की जानकारी और सुविधा मिल रही है. ई -पंचायत द्वारा ग्रामीण वर्ग अपने लिए बनी सरकारी योजनाओं की जानकारी प्राप्त करके उनका लाभ उठा सकते हैं. किसान पोर्टल, किसान सुविधा एप, पूसा कृषि, सॉयल हेल्थ कार्ड एप, इनाम, फसल बीमा मोबाइल एप, एग्री मार्केट एप, फर्टिलाइजर मोबाइल एप सहित कई ऐसे एप है जो किसान और बाजार के बीच की दूरी को कम कर रहे हैं. इसकी सहायता से किसान घर बैठे उन्नत खेती की सभी पजानकारी प्राप्त कर सकते हैं.