बिहार के 3 नक्सल प्रभावित जिलों में 1034 करोड़ से बनेंगी सड़कें और पुल

188

Patna:बिहार के वामपंथ उग्रवाद प्रभावित तीन जिलों में 1034 करोड़ की लागत से लगभग 600 किमी सड़कों का निर्माण होगा। 34 पुल भी बनेंगे। केन्द्र सरकार ने योजना की प्रथम किस्त की राशि 203 करोड़ जारी कर दी है।

पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने बताया कि केन्द्र सरकार के वामपंथ उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों के लिए सड़क सम्पर्क योजना के अंतर्गत रोहतास, नवादा एवं जमुई में 51 सड़कों का निर्माण होगा। इसमें 15 मीटर लम्बाई वाले 34 पुल-पुलियों का निर्माण भी शामिल है। इन 85 योजनाओं के कार्यान्वयन के लिए 60 प्रतिशत राशि भारत सरकार देगी, जबकि राज्यांश 40 प्रतिशत होगा। वामपंथ उग्रवाद प्रभावित रोहतास जिले के 5, नवादा के 13 और जमुई जिले के 6 प्रखण्डों में पुल-पुलियों का निर्माण होना है।

सड़कों का निर्माण व उसका रखरखाव ठेकेदार ही करेंगे। सड़क या पुल-पुलिया निर्माण के 5 वर्षों तक पथ/पुल के रखरखाव का कार्य उसी संवेदक/एजेंसी द्वारा किया जायेगा जिसने निर्माण किया है। निविदा की प्रक्रिया ई-टेंडरिंग पद्धति से होगी। इससे पूर्व केन्द्र सरकार ने राज्य के औरंगाबाद, गया, बांका, जमुई व मुजफ्फरपुर जिले में 1037 किमी लंबी सड़कें बनाने के लिए 64 योजनाओं व 41 पुलों के निर्माण के लिए 2017-18 और 2018-19 में 1638 करोड़ की मंजूरी दी थी। इसमें से 960 करोड़ का आवंटन प्राप्त हो चुका है। इसमें केन्द्रांश 517 करोड़ एवं राज्यांश की राशि 390 करोड़ है। स्वीकृत योजना के तहत 15 पथों का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है और शेष 49 सड़कों का निर्माण कार्य मार्च 2021 तक पूरा करने का लक्ष्य है।