बिहार में चुनाव से पहले खुलेगा नौकरियों का पिटारा, जल्द बहाल होंगे 9000 यूनिवर्सिटी शिक्षक

180

Patna:बिहार के विश्वविद्यालयों में विधानसभा चुनाव से पहले 9000 पदों पर शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है. रोस्टर क्लीयर करते हुए विश्वविद्यालयों ने शिक्षक रिक्तियों की सूची तैयार कर शिक्षा विभाग को भेजी है जिसके आधार पर विवि शिक्षकों की नियुक्ति का प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया गया है. जय प्रकाश विवि, छपरा एवं बीआरए बिहार विवि मुजफ्फरपुर के शिक्षक रिक्तियों में कुछ खामियां पकड़ी गई है जिसका समाधान करने का निर्देश दिया गया है.

शिक्षा विभाग के एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने बताया कि विवि शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया का विधानसभा चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है. विभाग का प्रयास है कि चुनाव आचार संहिता के पेंच में विवि शिक्षकों की बहाली नहीं फंसे. इसलिए सभी विश्वविद्यालयों से रोस्टर क्लियर कराकर नियुक्ति प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया जा रहा है. इस प्रस्ताव को अधियाचना के रूप में बिहार राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग को भेजा जाएगा, इसके पहले अपर मुख्य सचिव के स्तर से कुछ संशोधन करने का निर्देश प्राप्त हुआ है.

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने अपने स्तर से शिक्षकों की नियुक्ति के लिए तैयारियां तेज कर दी हैं. उन्होंने विश्वविद्यालय सेवा आयोग को अधियाचना भेजने से पूर्व रिक्तियों संबंधी ‘होम वर्क’ दुरुस्त करने का आदेश उच्च शिक्षा निदेशालय को दिया है. विश्वविद्यालय सेवा आयोग से अधियाचना का इंतजार में है. आयोग के एक सदस्य ने बताया कि जैसे ही सरकार से अधियाचना प्राप्त होगी नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जाएगी.

विश्वविद्यालय स्तर पर शिक्षकों की रिक्तियां

पटना विश्वविद्यालय में 492, मगध विवि में 1443, ललित नारायण मिथिला विवि में 1199, बीआरए बिहार विवि में 1160, मौलाना मजहरूल हक अरबी फारसी विश्वविद्यालय में 55, जय प्रकाश विवि में 636 वीर कुंवर सिंह विवि में 596 बीएन मंडल विवि में 698, तिलका मांझी विवि में 826, कामेश्वर सिंह संस्कृत विवि में 380 पद.