बिहार में भी कृषि कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चरम पर, पटना-आरा समेत इन शहरों में सड़क जाम

90

Patna: किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ आज अखिल भारतीय किसान महासभा और भाकपा-माले ने राज्यव्यापी चक्का जाम का ऐलान किया है। माले विधायक सुदामा प्रसाद के नेतृत्व में आरा बस स्टैंड के समीप भाकपा माले कार्यकर्ताओं ने किया सुबह-सुबह ही सड़क जाम कर दिया।

राज्य के कई हिस्सों में सड़क जाम

सड़क जाम होने से वाहनों की लम्बी कतार लग गई है। बेगूसराय समेत राज्य के कई अन्य हिस्सों से विरोध प्रदर्शन की खबर आ रही है। भाकपा-माले, किसान महासभा और खेग्रामस तीनों कृषि कानून को वापस लेने, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान की सरकारी खरीद की गारंटी देने और प्रस्तावित बिजली बिल 2020 वापस लेने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

पटना में आंदोलन बेअसर

पटना में अखिल भारतीय किसान महासभा और भाकपा-माले का राज्यव्यापी चक्का जाम बेअसर दिख रहा है। यहां रोज की तरह ही अभी तक बिना रोक-टोकर सभी गाड़ियां चल रही हैं।

आज कृषि बिल को लेकर दिल्ली में चल रहे किसानों के आंदोलन के समर्थन में महागठबंधन के नेता पटना में धरना दे रहे हैं। तेजस्वी यादव की अगुवाई में राजद, कांग्रेस और वामदलों के नेता द्वारा गांधी मैदान स्थित गांधी मूर्ति के समक्ष सुबह 10 बजे से दो घंटे के लिए सांकेतिक धरने पर बैठने का कार्यक्रम था। गांधी मूर्ति के पास धरने की अनुमति नहीं मिलने के कारण ज्ञान भवन के पास चार नंबर गेट पर धरना दिया जा रहा है। धरना स्थल पर काफी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात है। डीएसपी टाउन सुरेश कुमार और गांधी मैदान थानेदार सुरेश वत्स, जिला पुलिस और एन्टी राइट बटालियन के जवानों की तैनाती है।

SDM सदर के अनुसार धरना देने का कोई परमिशन प्रशासन ने नहीं दिया है। राजद नेताओं पर इस मामले में FIR दर्ज होगी। साथ ही आपदा प्रबंधन अधिनियम धारा 51 से 60 के तहत कोविड नियमों के उल्लंघन में भी केस दर्ज किया जाएगा। राजद के काफी सारे नेता और कार्यकर्ताओं ने मास्क नहीं पहना है। सोशल डिस्टेंसिंग का भी उल्लंघन किया है।