जानें ऐसा क्या हुआ कि लालू ने कहा- ‘जब से सीएम बने हैं, बच्चे पैदा होना ही बंद हो गए’

292

Patna: RJD के अध्यक्ष और बिहार के पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) देश के बड़े राजनीतिक दिग्गज माने जाते हैं. अपने बात कहने के अंदाज, बेबाकी, बयानबाजी का अलग अंदाज और उनका मसखरापन उन्हें दूसरे राजनेताओं से अलग खड़ा करता है. गुरुवार यानि 11 जून को उनका 73वां जन्मदिन है. 11 जून 1948 को जन्मे इस राजनेता का जब भी नाम लिया जाता है तो लोगों के जेहन में जो छवि उभरकर आती है वह हाजिर जवाब होने के साथ-साथ एक तेज तर्रार नेता के तौर पर होती है.

चारा घोटाला के मामले में दोषी करार दिए गए लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) फिलहाल रांची के होटवार जेल में हैं, लेकिन इनके हंसी-मजाक और मसखरेपन वाले बयान आज भी लोगों के जेहन में जिंदा हैं. दरअसल सड़क हो या संसद, गंभीर मुद्दों पर उनका मसखरापन माहौल को हल्का बनाने के लिए काफी होता है. आइए हम ऐसे ही कुछ बयानों पर एक नजर डालते हैं.

-लालू प्रसाद यादव खुद ही कई बार कह चुके हैं, जब तक समोसे में रहेगा आलू, बिहार में रहेगा लालू.

-एक बार लालू यादव ने कहा, पूरी दुनिया के लोग जानना चाहते हैं कि एक ग्वाला का बेटा इतनी ऊंचाई पर कैसे पहुंच गया. मुझ में लोगों की इतनी रुचि, भारतीय लोकतंत्र की जीत है.

-एक बार महिला पत्रकार ने लालू से उनके नौ बच्‍चों के बारे में पूछा तो उन्‍होंने कहा, जब से सीएम बने हैं, बच्चे पैदा होना ही बंद हो गए.

-एक पत्रकार ने जब लालू से पूछा कि क्‍या आपने आरजेडी शासन में कभी नकल की बात सुनी? उन्होंने जवाब दिया, नहीं सुनी होगी क्योंकि हम तो छात्रों को पूरी किताब ही दे देते थे.

-एक पत्रकार ने जब लालू यादव को ये बताया कि हेमा मालिनी उनकी फैन हैं तो उन्‍होंने कहा, अगर हेमा मालिनी मेरी फैन हैं तो मैं उनका एयरकंडीशनर हूं.

-एक मौके पर लालू ने कहा था, हम बिहार की सड़कों को हेमा मालिनी के गालों जितना मुलायम बना देंगे.

-काम न करने को लेकर हो रही आलोचनाओं का जवाब देते हुए लालू ने कहा था, हम इतना काम करते हैं, अगर आराम नहीं करेंगे, तो पगला जाएंगे.

-वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में उऩ्होंने एक बार कहा, ‘नरेन्द्र मोदी अगले कुछ दिनों में पागल हो जाएंगे. हमारे देश के प्रधानमंत्री बनने के लिए वे पागल हुए जा रहे हैं.’

-अपना 69वां जन्‍मदिन मनाते हुए भी मीडिया से बातचीत के दौरान लालू यादव ने ठेठ अंदाज में कहा, ‘अभी तो मैं जवान हूं.’

-जब लालू रेलवे मंत्री थे तब उन्‍होंने अपना आर्थिक सिद्धांत देते हुए कहा, अगर आप गाय को पूरी तरह नहीं दुहेंगे तो वो बीमार पड़ जाएगी.

-यूपीए सरकार में रेलवे मंत्रालय की जिम्‍मेदारी संभालने पर लालू ने कहा था, हमरी मां ने सिखाया है कि भैंसवा को पूंछ से नहीं, बल्कि हमेशा सींग की तरफ से पकड़ों. मैंने जिंदगी में यही सबक अपनाया है.

-लालू यादव अक्‍सर ‘धत बुड़बक’ कहते हैं. आज ज्‍यादातर हास्‍य कलाकार इसका प्रयोग करते हैं.

-बीफ बैन पर लालू ने कहा था, ‘गौ रक्षा का ढिंढोरा पीटने वाले लोग खुद घरों में कुत्ता पालते हैं, गाय नहीं. जानते हो ना कौन है ई लोग.’

-रेलवे में बढ़ती चोरी की घटना पर कहा था, डकैती तो होता रहता है.

-रेल हादसों की बढ़ती संख्या पर लालू ने कहा था, भारतीय रेल का दायित्व भगवान विश्वकर्मा पर है. इसलिए यात्रियों की सुरक्षा का दायित्व उनका है, मेरा नहीं. मैं उनके काम को संभालने के लिए विवश हूं.