मार्च से गांधी सेतु के दोनों तरफ दोड़ने लगेगी गाड़ियां, चार बड़े पुलों के निर्माण कार्य में भी आई तेजी

121

Patna: गांधी सेतु के दोनों लेन पर वाहनों का परिचालन मार्च 2022 तक शुरू हो जाएगा। वहीं गांधी सेतु के समानांतर बन रहे फोर लेने पुल का निर्माण शीघ्र आरंभ होगा। निर्माणाधीन व प्रस्तावित मेगा ब्रिज की समीक्षा बैठक के बाद पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने यह बात कही।

15 आरओबी के निर्माण की समीक्षा

पथ निर्माण मंत्री ने यह निर्देश दिया कि एनएच 106 के कोसी नदी पर बन रहे फुलौत ब्रिज व गंगा नदी पर भागलपुर में विक्रमशिला सेतु के समानांतर बनने वाले फोर लेन पुल का निर्माण कार्य भी शीघ्र आरंभ किया जाए। उन्होंने एनएच 104 व 106 पर चल रहे निर्माणकार्य को शीघ्र पूरा करने का निर्देश दिया।

पथ निर्माण मंत्री ने सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा स्वीकृत 15 आरओबी के निर्माण की भी समीक्षा की। निर्माण कार्य में आ रही अड़चन को ले उन्होने अधिकारियों को यह निर्देश दिया कि रेलवे के साथ समन्वय कर समय सीमा में योजनाओं का काम पूरा कराएं।

कहा कि सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने एनएच की जिन सड़कों को राज्य सरकार को सौैंपा है उसकी स्थिति हर हाल में बेहतर रहनी चाहिए। एनएच के रख रखाव एवं विकास के लिए दीर्घकालीन योजना बनाए जाने का भी उन्होंने निर्देश दिया।

बिहार में चार बड़े पुलों का निर्माण प्रधानमंत्री पैकेज के तहत

पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने इस मौके पर यह जानकारी दी कि बिहार में चार बड़े पुलों का निर्माण प्रधानमंत्री पैकेज के तहत किया जा रहा है। इसमें दो पुल पटना में गंगा नदी पर, एक भागलपुर में गंगा नदी पर और एक कोसी नदी पर फुलौत में बनाया जा रहा। वर्तमान में 718 किमी की लंबाई में 4278 करोड़ रुपए की लागत से सड़कों का चौड़ीकरण एवं मजबूतीकरण योजना पर काम किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त 1060 करोड़ रुपए की लागत से 15 आरओबी के निर्माण की स्वीकृति प्राप्त है। इसमें 13 आरओबी का निर्माण कीार्य प्रगति में है। इसके अतिरिक्त लगभग 500 किमी में मजबूतीकरण एवं सावधि नवीकरण का काम चल रहा है।

बैठक में पथ निर्माण विभाग के विशेष सचिव देवेश सेहरा, अभियंता प्रमुख अमरनाथ पाठक, मुख्य अभियंता एनएच (उत्तर) अनिल कुमार सिन्हा व मुख्य अभियंता एनएच (दक्षिण) पीके लाल भी मौजूद थे।