नाव में बैठ कोसी दियारा पहुंचे पप्पू यादव, लॉकडाउन में उड़ाई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

198

Patna: कभी ट्रैक्टर, कभी जेसीबी तो कभी बैलगाड़ी या फिर बुलेट की सवारी, ये अनोखा अंदाज रहा है JAP सुप्रीमो पप्पू यादव का. साथ ही बहुत ही सहज और सुलभ तरीके से आम लोगों के बीच अपनी मौजूदगी दिखाकर मीडिया की सुर्खियां बटोर लेने की उनकी स्टाइल भी जगजाहिर रही है. गुरुवार को सुपौल से सटे मधुबनी के कोसी दियारा इलाके में एक बार फिर कुछ ऐसे ही अनोखे अंदाज में नजर आए पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव.

इस बार वह नाव के काफिले के साथ कोसी के बाढ़ प्रभावित इलाके में घूमते नजर आए. नाव के ऊपर बजाप्ता लाउडस्पीकर लगाया गया था. साथ ही नाव के बीचों-बीच लगी कुर्सी पर बैठे पप्पू यादव हाथों में माइक थामे नाव की सवारी करते नजर आए. इस दौरान जहां कहीं ग्रामीणों की भीड़ नजर आई जाप सुप्रीमो ने अपनी नाव को नदी किनारे लगवाया और लोगों की समस्याएं सुनने के बाद समाधान का भरोसा देकर आगे बढ़ गए.

ये पब्लिक है सब जानती है…
ग्रामीणों से मिली जानकारी के मुताबिक, मधेपुरा प्रखंड के भेजा थाना क्षेत्र में बकुवा, भरगामा, टेंगराहा और करहारा गांव होते हुए जाप सुप्रीमो का काफिला निकला. इस बीच कई जगह अपनी नाव रोक कर पप्पू यादव लोगों से रूबरू हुए और हालचाल जाना. वहीं, पार्टी कार्यकर्ताओं ने स्थानीय युवकों को नेताजी का नंबर दिया. नेताजी ने फोन पर अपनी समस्याएं बताते रहने की सलाह देकर स्थानीय युवकों के चेहरे पर मुस्कान ला दी. इस दौरान ग्रामीणों ने पूर्व सांसद को स्वास्थ्य सुविधाओं की बदहाली समेत बाढ़ से हो रही परेशानियां सुनाई. पप्पू यादव ने मौके से ही स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय को फोन लगाया, लेकिन नेटवर्क न होने की बात कहकर बाद में इन समस्याओं का समाधान करने का भरोसा दिया.

लॉकडाउन में लोगों के बीच जाना जायज है?

चुनावी साल में जनता जनार्दन का हालचाल लेने में कोई भी सियासी दल पीछे नहीं रहना चाहता, वहीं बाढ़ के समय लाचार और असहाय जनता का दुख-दर्द जानना अच्छी बात है. लेकिन, सवाल यह उठता है कि कोरोना के तेजी से बढ़ रहे संक्रमण को ब्रेक करने के लिए गुरुवार से बिहार में लॉकडाउन किया गया है. ऐसे में किसी नेता का अपने काफिले के साथ लोगों के बीच पहुंचना जायज है? वहीं सवाल ये भी है कि लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं करने पर प्रशासन अब तक मौन क्यों है?