पटना एयरपोर्ट पर धराये 6 आरोपित, फर्जी आईडी कार्ड के सहारे मुंबई जाने के फिराक में थे

182

Patna: पटना एयरपोर्ट पर फर्जी आईडी के सहारे मुंबई जाने के लिए हवाई सफर करने से पहले गुरुवार की दोपहर बेगूसराय जिले के छह आरोपित पकड़ लिये गए. इस गिरोह से जुड़े मास्टरमाइंड, दो एजेंट समेत छह सदस्यों को सीआईएसएफ ने खुफिया सूचना व जांच के दौरान धर- दबोचा. इनमें तीन सदस्य स्पाइसजेट की फ्लाइट से फर्जी आईडी(आधार कार्ड) के सहारे तथा तीन यात्री विमान से मुंबई जाने की फिराक में थे.

यात्रियों से पूछताछ के बाद दो एजेंट और उनके एक और सहयोगी को पकड़ा गया. बाद में सीआईएसएफ ने पकड़े गये सभी आरोपितों को एयरपोर्ट थाने के हवाले कर दिया. पुलिस की जांच में आरोपितों के पास से फर्जी आईडी कार्ड के अलावा असली आईडी कार्ड भी मिले हैं, जिसकी जांच की जा रही है. पकड़े गये आरोपितों के खिलाफ एयरपोर्ट थाने की पुलिस ने केस भी दर्ज कर लिया है.

पुलिस के मुताबिक गिरोह से जुड़े तीन यात्री मोहम्मद हुसैन आलम, अब्दुल रहमान और बलराम कुमार महासेठ दोपहर में पटना एयरपोर्ट पर स्पाइसजेट की फ्लाइट से मुंबई जाने की तैयारी में थे. इसी बीच सीआईएसएफ के इंटेलिजेंस विंग के इंचार्ज अजीत कुमार को खुफिया जानकारी मिली . उन्होंने लेडी कांस्टेबल अंशुमाला के साथ डिपार्चर गेट पर दबिश बनाई,जिसके बाद फर्जी आईडी लिए इन तीन यात्रियों को धर- दबोचा गया. जांच में इनके पास से दो तरह के आईडी कार्ड मिले.

एयरपोर्ट थाना प्रभारी अरुण कुमार ने बताया कि पकड़े गये यात्रियों ने पूछताछ में बताया कि उन्हें गिरोह के मास्टरमांइड मोहम्मद जुनेद आलम ने दो एजेंटों के जरिए यह फर्जी आईडी उपलब्ध कराई थी. इसके आधार पर दोनों एजेंट विवेक कुमार सिंह और मधुमीत कुमार सिंह को भी पकड़ा गया. पकड़े गये यात्रियों ने यह भी बताया कि एजेंट व मास्टरमाइंड की ओर से कुल 13 लोगों को फ्लाईट से मुंबई ले जाना था. दस लोग जा चुके थे. तीन लोग जाने से मुकर गये तो उनके बदले फर्जी आईडी बनवाकर हम सभी को मुंबई ले जाने की कोशिश की गई. यह बात पकड़े जाने पर पता चली. थाना प्रभारी ने बताया कि जांच जारी है. फर्जी आईडी किसने बताई, पता चलने पर उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा.