बिहार में अब अस्पताल के बाहर नहीं लगेगा लाइन, ये साफ्टवेयर दूर करेगा मरीजों का दर्द

116

Patna: अब सरकारी अस्पताल पहुंचते ही मरीज ऑनलाइन हो जाएगा। संजीवनी पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होते ही उसकी सारी जानकारी ऑनलाइन हो जाएगी। मरीज से संबंधित इलाज के बारे में सभी जानकारी पोर्टल पर दिखेगी। इसमें मरीज के दिखाने की तिथि, डॉक्टर का नाम, अस्पताल का नाम, जांच रिपोर्ट, सुझाव की गई दवा से संबंधित हर जानकारी पोर्टल पर होगी। मरीज को कहीं भागदौड़ करने की जरूरत ही नहीं होगी बल्कि रोगी भी अपने इलाज से संबंधित सभी विवरण अपने स्तर से भी जांच लेगा। शुक्रवार को पटना के डीएम कुमार रवि ने प्रयोग के तौर पर दो अस्पतालों से इसकी शुरुआत की है।

प्रयोग सफल हुआ तो हर अस्पताल में यह सुविधा
पटना डीएम कुमार रवि ने ‘संजीवनी प्लस’ सॉफ्टवेयर पर आधारित हॉस्पिटल मैनेजमेंट सिस्टम का शुभारंभ किया है। प्राथमिक एवं प्रायोगिक तौर पर गुरु गोविंद सिंह अस्पताल, पटना सिटी और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, फुलवारीशरीफ से इसे लांच किया गया है। प्रयोग सफल रहा तो पटना के सभी सरकारी अस्पतालों में यह सुविधा दी जाएगी।

ऐसे काम करेगा साफ्टवेयर
मरीज के अस्पताल पहुंचते ही उसका रजिस्ट्रेशन संजीवनी सॉफ्टवेयर के माध्यम से किया जाएगा। सॉफ्टवेयर पर आधारित इस तकनीक में मरीज से संबंधित जांच और डॉक्टर का पर्चा सब अपलोड कर दिया जाएगा। मरीज को एक रजिस्ट्रेशन नंबर दिया जाएगा। इस नंबर के सहारे मरीज के साथ डॉक्टर भी ऑनलाइन सब जानकारी देख सकेंगे। OPD से लेकर भर्ती होने वाले मरीजों की भी पूरी जानकारी पोर्टल पर दिखेगी। इसमें फार्मेसी, रेडियोलॉजी, नर्सिंग स्टेशन से लेकर हर जानकारी दर्ज होती रहेगी। इसके लिए संबंधित अस्पताल में संजीवनी पोर्टल का निबंधन काउंटर बनाया गया है। यह व्यवस्था कंप्यूटरीकृत तथा डाटा कलेक्शन मोड में होगी।